Hanuman Chalisa | श्री हनुमान चालीसा In Hindi And English

About Things Hanuman Chalisa

Hanuman Chalisa is a song to worship Lord Hanuman Ji whenever we fast for Hanuman Ji, we have to talk to Hanuman Chalisa while worshiping him.

Then our worship is sought to be successful Hanuman Chalisa lyrics with very precise and pure form It should be considered because it is believed that by reciting Hanuman ChalisaLord Hanuman provides us with wisdom, strength, and knowledge; Must be sincere.

if you are also a devotee of Hanuman, then you should also recite Hanuman Chalisa. We are giving you below the pure Hanuman Chalisa. You will find Hanuman Chalisa in Hindi and Hanuman Chalisa English only in English, but whatever he will wear will be in Hindi and Will be pure.

Hanuman Chalisa

How to worship Lord Hanuman

1 Lord Hanuman is worshiped on Tuesdays and Saturdays

Lord Hanuman’s worship can be done by Hanuman Ji’s temple or his statue in his house.

3 If you are non-vegetarian, then you will have to leave only non-vegetarians on Tuesdays and Saturdays to eat vegetarian food only

4 Hanuman Ji will have to compose 40 lines of Hanuman Chalisa by lighting the lamp of Motichur and lighting the ghee and it will liberate you from happiness and fear, the devotion of Hanuman Ji is very popular

5 You have to take Hanumanji’s name after waking up before sleeping

6 If you are experiencing any problems, then take bath on Saturday and put mustard oil on your head and go to the temple of Hanuman and leave it on the sesame, sugar and red gram (pigeon pea) do it for 11 weeks Offer this, you will get rid of that problem and you will get a new miracle

7 Always keep a photo of Hanuman Ji in your purse as it will remove the problems of the ghosts and you

Hanuman Chalisa in Hindi

  1. ।दोहा।।
  2. श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुर सुधार |
    बरनौ रघुवर बिमल जसु , जो दायक फल चारि |
  3. बुद्धिहीन तनु जानि के , सुमिरौ पवन कुमार |
    बल बुद्धि विद्या देहु मोहि हरहु कलेश विकार ||
  4. ।।चौपाई।।
  5. जय हनुमान ज्ञान गुन सागर, जय कपीस तिंहु लोक उजागर |
    रामदूत अतुलित बल धामा अंजनि पुत्र पवन सुत नामा ||2||
  6. महाबीर बिक्रम बजरंगी कुमति निवार सुमति के संगी |
    कंचन बरन बिराज सुबेसा, कान्हन कुण्डल कुंचित केसा ||4|
  7. हाथ ब्रज औ ध्वजा विराजे कान्धे मूंज जनेऊ साजे |
    शंकर सुवन केसरी नन्दन तेज प्रताप महा जग बन्दन ||6|
  8. विद्यावान गुनी अति चातुर राम काज करिबे को आतुर |
    प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया रामलखन सीता मन बसिया ||8||
  9. सूक्ष्म रूप धरि सियंहि दिखावा बिकट रूप धरि लंक जरावा |
    भीम रूप धरि असुर संहारे रामचन्द्र के काज सवारे ||10||
  10. लाये सजीवन लखन जियाये श्री रघुबीर हरषि उर लाये |
    रघुपति कीन्हि बहुत बड़ाई तुम मम प्रिय भरत सम भाई ||12||
  11. सहस बदन तुम्हरो जस गावें अस कहि श्रीपति कण्ठ लगावें |
    सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा नारद सारद सहित अहीसा ||14||
  12. जम कुबेर दिगपाल कहाँ ते कबि कोबिद कहि सके कहाँ ते |
    तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा राम मिलाय राज पद दीन्हा ||16||
  13. तुम्हरो मन्त्र विभीषन माना लंकेश्वर भये सब जग जाना |
    जुग सहस्र जोजन पर भानु लील्यो ताहि मधुर फल जानु ||18|
  14. प्रभु मुद्रिका मेलि मुख मांहि जलधि लाँघ गये अचरज नाहिं |
    दुर्गम काज जगत के जेते सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते ||20||
  15. राम दुवारे तुम रखवारे होत न आज्ञा बिनु पैसारे |
    सब सुख लहे तुम्हारी सरना तुम रक्षक काहें को डरना ||22||
  16. आपन तेज सम्हारो आपे तीनों लोक हाँक ते काँपे |
    भूत पिशाच निकट नहीं आवें महाबीर जब नाम सुनावें ||24||
  17. नासे रोग हरे सब पीरा जपत निरंतर हनुमत बीरा |
    संकट ते हनुमान छुड़ावें मन क्रम बचन ध्यान जो लावें ||26||
  18. सब पर राम तपस्वी राजा तिनके काज सकल तुम साजा |
    और मनोरथ जो कोई लावे सोई अमित जीवन फल पावे ||28||
  19. चारों जुग परताप तुम्हारा है परसिद्ध जगत उजियारा |
    साधु संत के तुम रखवारे। असुर निकंदन राम दुलारे ||30||
  20. अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता। अस बर दीन्ह जानकी माता
    राम रसायन तुम्हरे पासा सदा रहो रघुपति के दासा ||32||
  21. तुम्हरे भजन राम को पावें जनम जनम के दुख बिसरावें |
    अन्त काल रघुबर पुर जाई जहाँ जन्म हरि भक्त कहाई ||34||
  22. और देवता चित्त न धरई हनुमत सेई सर्व सुख करई |
    संकट कटे मिटे सब पीरा जपत निरन्तर हनुमत बलबीरा ||36||
  23. जय जय जय हनुमान गोसाईं कृपा करो गुरुदेव की नाईं |
    जो सत बार पाठ कर कोई छूटई बन्दि महासुख होई ||38||
  24. जो यह पाठ पढे हनुमान चालीसा होय सिद्धि साखी गौरीसा |
    तुलसीदास सदा हरि चेरा कीजै नाथ हृदय मँह डेरा ||40||
  25. ।।दोहा।।
    पवन तनय संकट हरन मंगल मूरति रूप |
    राम लखन सीता सहित हृदय बसहु सुर भूप ||
worship Hanuman

Hanuman Chalisa in English

Doha

  1. Shri Guru Charan Saroj Raj
    Nij mane mukure sudhar
    Varnao Raghuvar Vimal Jasu
    Jo dayaku phal char

Square

  1. Budhi Hin Tanu Janike
    Sumirau Pavan Kumar
    Bal budhi Vidya dehu mohe
    Harahu Kalesa Vikar
  2. Jai Hanuman gyan gun sagar
    Jai Kapis tihun lok ujagar
  3. Ram doot atulit bal dhama
    Anjani-putra Pavan sut nama
  4. Mahavir Vikram Bajrangi
    Kumati nivar sumati Ke sangi
  5. Kanchan varan viraj subesa
    Kanan Kundal Kunchit Kesa
  6. Hath Vajra Aur Dhuvaje Viraje
    Kandhe moonj janehu sajai
  7. Sankar suvan kesri Nandan
    Tej pratap maha jag vandan
  8. Vidyavan guni ati chatur
    Ram kaj karibe ko aatur
  9. Prabu charitra sunibe ko rasiya
    Ram Lakhan Sita man Basiya
  10. Sukshma roop dhari Siyahi dikhava
    Vikat roop dhari lanka jarava
  11. Bhima roop dhari asur sanghare
    Ramachandra ke kaj sanvare
  12. Laye Sanjivan Lakhan Jiyaye
    Shri Raghuvir Harashi ur laye
  13. Raghupati Kinhi bahut badai
    Tum mam priye Bharat-hi sam bhai
  14. Sahas badan tumharo yash gaave
    Us kahi Shripati kanth lagaave
  15. Sankadik Brahmadi Muneesa
    Narad Sarad sahit Aheesa
  16. Yam Kuber Digpal Jahan te
    Kavi kovid kahi sake kahan te
  17. Tum upkar Sugreevahin keenha
    Ram milaye rajpad deenha
  18. Tumharo mantra Vibheeshan mana
    Lankeshwar Bhaye Sub jag jana
  19. Yug sahastra jojan par Bhanu
    Leelyo tahi madhur phal janu
  20. Prabhu mudrika meli mukh mahee
    Jaladhi langhi gaye achraj nahee
  21. Durgaam kaj jagat ke jete
    Sugam anugraha tumhre tete
  22. Ram dware tum rakhvare,
    Hoat na agya binu paisare
  23. Sub sukh lahai tumhari sarna
    Tum rakshak kahu ko dar na
  24. Aapan tej samharo aapai
    Teenhon lok hank te kanpai
  25. Bhoot pisach Nikat nahin aavai
    Mahavir jab naam sunavai
  26. Nase rog harai sab peera
    Japat nirantar Hanumant beera
  27. Sankat se Hanuman chudavai
    Man Karam Vachan dyan jo lavai
  28. Sub par Ram tapasvee raja
    Tin ke kaj sakal Tum saja
  29. Aur manorath jo koi lavai
    Sohi amit jeevan phal pavai
  30. Charon Yug partap tumhara
    Hai persidh jagat ujiyara
  31. Sadhu Sant ke tum Rakhware
    Asur nikandan Ram dulhare
  32. Ashta sidhi nav nidhi ke dhata
    Us var deen Janki mata
  33. Ram rasayan tumhare pasa
    Sada raho Raghupati ke dasa
  34. Tumhare bhajan Ram ko pavai
    Janam janam ke dukh bisravai
  35. Anth kaal Raghuvir pur jayee
    Jahan janam Hari-Bakht Kahayee
  36. Aur Devta Chit na dharehi
    Hanumanth se hi sarve sukh karehi
  37. Sankat kate mite sab peera
    Jo sumirai Hanumat Balbeera
  38. Jai Jai Jai Hanuman Gosahin
    Kripa Karahu Gurudev ki nyahin
  39. Jo sat bar path kare kohi
    Chutehi bandhi maha sukh hohi
  40. Jo yah padhe Hanuman Chalisa
    Hoye siddhi sakhi Gaureesa
  41. Tulsidas sada hari chera
    Keejai Das Hrdaye mein dera

Doha

  1. Pavantnai sankat haran,
    Mangal murti roop.
    Ram Lakhan Sita sahit,
    Hrdaye basahu sur bhoop.

Lord Hanuman Chalisa video

Hanuman Chalisa pdf

Here Hanuman Chalisa  that you can down, or by zooming on this website you can read it, to download you will have to press this image after pressing, you will see the download option

Hanuman Chalisa pdf

हिंदू धर्म में एक लोकप्रिय देवता होने के अलावा, हनुमान जैन धर्म और बौद्ध धर्म में भी पाए जाते हैं। वह म्यांमार, थाईलैंड, कंबोडिया, मलेशिया और इंडोनेशिया जैसे भारतीय उपमहाद्वीप के बाहर पाए जाने वाले किंवदंतियों और कलाओं में एक महान चरित्र भी है। भारत के बाहर, हनुमान भारत में हिंदू संस्करणों के साथ कई विशेषताओं को साझा करता है लेकिन दूसरों में भिन्न होता है। वह वीर, बहादुर और दृढ़ता से शुद्ध है, संस्कृत परंपरा की तरह, लेकिन ब्रह्मांड नहीं है। वह भारत के कुछ क्षेत्रीय संस्करणों में मामला है, जैसा कि वह अन्य संस्कृतियों में बच्चों से शादी करता है और बच्चों को करता है। Xiyouji (पश्चिम में यात्रा) में एक बंदर नायक के रूपरेखा भरे रोमांच के लिए विद्वानों द्वारा हनुमान कहा जाता है/

Hanuman Chalisa

History of Hanuman Ji

One day after their birth, their mother left her in the ashram to bring fruit. When the baby Hanuman was hungry, he began to fly in the sky holding the rising sun as fruit and catching it.

To help him, the wind also ran very fast. On the other hand, Lord Sun allowed them to not burn with their sharpness as a disguised child. At the time when Hanuman sat down to catch the sun, at that time Rahu wanted to eclipse on the sun.

When Hanumanji touched Rahu in the upper part of the sun, he got frightened and fled from there. He complained to Indra and complained “Devraj!” You gave me sun and moon as a means of restoring my appetites.

Today, on the new moon day, when I went to suffer the sun, I saw that the other Rahu is going to catch the sun.

Upon listening to Rahu, Indra got scared and took her along and walked towards the sun. Seeing Rahu, Hanuman jumped on the sun but left the sun When Rahu called Indra for protection.

he struck Hanumanji with vajrayudh so that he fell on a mountain and his left chin broke. Seeing this state of Hanuman, Sukhdev became angry. They stopped their movement in the very same moment.

With this, no creature in the world could breathe, and all the suffering began to aggravate.

Hanuman Chalisa

Then all Sur, Asur, Yaksha, Kinnar etc. went to the refuge of Brahma ji. Brahma went to Vayudev with all of them. They were frustrated in the lap of Hanukah for the misery.

When Brahmaji resurrected him, Vayu Deo took away the pain of all creatures by communicating his speed. Then Brahma said that no weapon can harm its organ.

Indra said that its body would be harder than thunderbolt. Suryadev said that he would give him the twentieth century of his fast and also blessed the knowledge of the scriptures. Varun said that this child will always be safe with my loop and water.

Yamedev blessed to be a long-term and healthy person. Yakshas Kubera, Vishwakarma etc also gave immovable boon.

According to Hindu epic Ramayana, Hanuman Ji is shown as a very strong man in the mouth of the apes. Their body is very muscular and strong. Jane hangs on his shoulder.

Hanuman Ji is shown with only a naked body wearing a nappy. He is shown wearing a golden crown on his head and gold jewelry on his body. They have a long tail similar to the apes. Their main weapon is considered dead.

हनुमान जी का इतिहास

उनके जन्म के एक दिन बाद, उनकी मां ने उन्हें फल लाने के लिए आश्रम में छोड़ दिया। जब बच्चा हनुमान भूख लगी, तो वह उगते सूरज को फल के रूप में पकड़कर आकाश पकड़ने लगा। उसकी मदद करने के लिए, हवा भी बहुत तेजी से भाग गया। दूसरी तरफ, भगवान सूर्य ने उन्हें एक छिपे हुए बच्चे के रूप में अपनी तीखेपन से जला नहीं दिया। उस समय जब हनुमान सूरज पकड़ने के लिए बैठे थे, उस समय राहु सूरज पर ग्रहण करना चाहता था।

जब हनुमानजी ने सूर्य के ऊपरी भाग में राहु को छुआ, तो वह डर गया और वहां से भाग गया। उन्होंने इंद्र से शिकायत की और शिकायत की “देवराज!” आपने मुझे अपनी भूख बहाल करने के साधन के रूप में सूर्य और चंद्रमा दिया। आज, नए चंद्रमा के दिन, जब मैं सूरज पीड़ित हुआ, मैंने देखा कि दूसरा राहु सूर्य पकड़ने जा रहा है।

राहु को सुनकर, इंद्र डर गया और उसे साथ ले गया और सूरज की ओर चला गया। राहु को देखते हुए, हनुमान सूरज पर कूद गए लेकिन सूरज छोड़ दिया जब राहु ने इंद्र को सुरक्षा के लिए बुलाया, उन्होंने हनुमानजी को वज्रुध के साथ मारा ताकि वह पहाड़ पर गिर जाए और उसके बाएं ठोड़ी टूट जाए। हनुमान की इस स्थिति को देखते हुए सुखदेव क्रोधित हो गए। उन्होंने एक ही पल में अपने आंदोलन को रोक दिया। इसके साथ, दुनिया में कोई प्राणी सांस ले सकता है, और सभी पीड़ा बढ़ने लगी।

तब सभी सुर, असुर, यक्ष, किन्नर आदि ब्रह्मा जी की शरण में गए। ब्रह्मा उन सभी के साथ वायुदेव गए। वे दुख के लिए हनुका के गोद में निराश थे। जब ब्रह्माजी ने उन्हें पुनरुत्थान किया, तो वायु देव ने अपनी गति को संप्रेषित करके सभी प्राणियों के दर्द को दूर कर लिया। तब ब्रह्मा ने कहा कि कोई हथियार अपने अंग को नुकसान नहीं पहुंचा सकता है। इंद्र ने कहा कि उसका शरीर थंडरबॉल्ट से कठिन होगा। सूर्यदेव ने कहा कि वह उन्हें अपने उपवास की बीसवीं शताब्दी देंगे और शास्त्रों के ज्ञान को भी आशीर्वाद देंगे। वरुण ने कहा कि यह बच्चा हमेशा मेरे लूप और पानी से सुरक्षित रहेगा। Yamedev एक दीर्घकालिक और स्वस्थ व्यक्ति होने के लिए धन्य है। यक्षस कुबेरा, विश्वकर्मा आदि ने अस्थायी वरदान भी दिया।

हिंदू महाकाव्य रामायण के अनुसार, हनुमान जी को एप के मुंह में एक बहुत मजबूत व्यक्ति के रूप में दिखाया गया है। उनका शरीर बहुत मांसपेशी और मजबूत है। जेन अपने कंधे पर लटका हुआ है। हनुमान जी को नुकीली पहने हुए केवल नग्न शरीर के साथ दिखाया गया है। वह अपने शरीर पर अपने सिर और सोने के गहने पर एक सुनहरा मुकुट पहने हुए दिखाया गया है। उनके पास एप के समान लंबी पूंछ है। उनका मुख्य हथियार मृत माना जाता है।

Hanuman Chalisa

Naming of Hanuman

Hanumanji’s chundi (Hanu in Sanskrit) was broken from Vajra of Indra. So they were given the name Hanuman. Apart from this, it is famous for many names such as Bajrang Bali, Maruti, Anjaneya Sut, Pawan Putra, Satsmokhchan, Kesari Nandan, Mahavir, Kipish, Shankar Suvan etc.

About Hanuman Chalisa

जबकि हनुमान प्राचीन हिंदू महाकाव्य रामायण में केंद्रीय पात्रों में से एक है, वहीं ग्रंथों में प्राचीन और अधिकांश मध्ययुगीन काल के ग्रंथों और पुरातात्विक स्थलों में भक्ति पूजा का सबूत गायब है। फिलिप लुटेंन्दोर्फ़ के अनुसार, एक अमेरिकी इंडोलॉजिस्ट हनुमान पर अपनी पढ़ाई के लिए जाना जाता है,

भारतीय सहानुभूति के आगमन के बाद, दूसरी सहस्राब्दी सीई में रामायण की रचना के बाद हनुमान को धार्मिक महत्व और भक्ति समर्पण के लगभग 1000 साल बाद उभरा। उपमहाद्वीप। समर्थ रामदास जैसे भक्ति आंदोलन संतों ने हनुमान को राष्ट्रवाद का प्रतीक और उत्पीड़न के प्रतिरोध के रूप में व्यक्त किया। आधुनिक युग में, उनकी प्रतीकात्मकता और मंदिर तेजी से आम हैं।

उन्हें शक्ति और भक्ति के रूप में “ताकत, वीर पहल और मेहनती छात्रवृत्ति जैसे मार्शल आर्ट्स के संरक्षक देवता रहे हैं। वह एक बंदर की तरह दिखने वाले व्यक्ति के पहले छापों के पीछे छिपे हुए, एक कारण के लिए आंतरिक आत्म-नियंत्रण, विश्वास और सेवा के मानव उत्कृष्टताओं का प्रतीक है।

hanuman Chalisa

Benefits to Hanuman Chalisa

By reciting the lyrics of Hanuman Chalisa hindi every day our mind remains calm and we become a poetic yadan, if we fear that if we beat it, then we should recite Hanuman Chalisa lyrics as Hanuman Chalisa Telugu has said that ghost vampire is near No,

when Mahabir tells the name / it proves that when the Hanuman Chalisa Mp3  is recited, ghost ghosts do not wander with that person

Conclusion

If you liked this  Lord Hanuman Chalisa post, please comment below and share our post on social media. You will see the buttons on the social media above. You can share this post by clicking on them

Hanuman Chalisa | श्री हनुमान चालीसा Hindi © 2018 Frontier Theme